My sketchings

शायरी



                 तेरे प्यार मे कही हर गज़ल पर जमाना रुस्वाइयां देता था
               तेरे जाने के बाद ये मन्जर है कि खामोशी भी सबको शायरी सी लगती है
                             - एकता नाहर 

Reactions: 

8 Response to "शायरी"

  1. नया सवेरा says:
    December 29, 2010 at 9:02 PM

    ... bahut khoob !!

  2. Md Jafar khan says:
    January 1, 2011 at 1:46 AM

    nice ..... aisa lag rha hai sayad kuch alg najariya apnaya hai aapne

  3. rahul says:
    January 1, 2011 at 6:31 PM

    sav na honge sath tere bs vo hmdm sath hoga ...rokle jane na de fir na ye charcha aam hoga....ji thnku thnku

  4. abhi says:
    January 3, 2011 at 7:52 PM

    वाह..ख़ामोशी भी शायरी लगने लगे तो क्या बात :)

  5. Dinesh pareek says:
    May 21, 2011 at 10:46 PM

    बहुत ही सुन्दर लिखा है अपने इस मैं कमी निकलना मेरे बस की बात नहीं है क्यों की मैं तो खुद १ नया ब्लोगर हु
    बहुत दिनों से मैं ब्लॉग पे आया हु और फिर इसका मुझे खामियाजा भी भुगतना पड़ा क्यों की जब मैं खुद किसी के ब्लॉग पे नहीं गया तो दुसरे बंधू क्यों आयें गे इस के लिए मैं आप सब भाइयो और बहनों से माफ़ी मागता हु मेरे नहीं आने की भी १ वजह ये रही थी की ३१ मार्च के कुछ काम में में व्यस्त होने की वजह से नहीं आ पाया
    पर मैने अपने ब्लॉग पे बहुत सायरी पोस्ट पे पहले ही कर दी थी लेकिन आप भाइयो का सहयोग नहीं मिल पाने की वजह से मैं थोरा दुखी जरुर हुआ हु
    धन्यवाद्
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

  6. ana says:
    June 19, 2011 at 10:33 AM

    wah wah

  7. Piush Trivedi says:
    February 4, 2012 at 12:19 AM

    बढ़िया .../// इसे भी देखे :- http://hindi4tech.blogspot.com Follow If U Lyk My BLog////

  8. Ekta Nahar says:
    June 23, 2013 at 6:05 AM

    http://ektakidiary.blogspot.com

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...